2nd PUC Hindi Workbook Answers गद्य Chapter 1 सुजान भगत

Students can Download 2nd PUC Hindi Workbook Answers गद्य Chapter 1 सुजान भगत Pdf, 2nd PUC Hindi Textbook Answers, helps you to revise the complete Karnataka State Board Syllabus and to clear all their doubts, score well in final exams.

Karnataka 2nd PUC Hindi Workbook Answers गद्य Chapter 1 सुजान भगत

2nd PUC Hindi Workbook Answers गद्य Chapter 1 सुजान भगत

I. एक शब्द या वाक्यांश या वाक्य में उत्तर: दीजिए।

प्रश्न 1.
सीधे-सादे किसान धन आते ही किस ओर झुकते है?
उत्तर:
सीधे-सादे किसान धन आते ही धर्म और कीर्ति की ओर झुकते है।

प्रश्न 2.
सुजान ने गांव में क्या बनवाया?
उत्तर:
सुजान ने गाँव में एक पक्का कुआँ बनवाया।

प्रश्न 3.
सुजान के बड़े बेटे का नाम क्या है?
उत्तर:
सुजान के बड़े बेटे का नाम है भोला है।

2nd PUC Hindi Workbook Answers गद्य Chapter 1 सुजान भगत

प्रश्न 4.
बुढापे में आदमी की क्या मारी जाती है?
उत्तर:
बुढापे में आदमी की बुद्धि मारी जाती है।

प्रश्न 5.
कटिया का ढेर देखकर कौन दंग रह गयी?
उत्तर:
कटिया का ढेर देखकर बुलाकी दंग रह गयी।

प्रश्न 6.
सुजान की गोद में सिर रखे किन्हे अकथनीय सुख मिल रहा था?
उत्तर:
सुजान की गोद में सिर रखे बैलों को अकथनीय सुख मिल रहा था।

प्रश्न 7.
भिक्षुक के गाँव का नाम लिखिए।
उत्तर:
भिक्षुक के गाँव का नाम था ‘अमोला’।

2nd PUC Hindi Workbook Answers गद्य Chapter 1 सुजान भगत

II. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर: दीजिए।

प्रश्न 1.
घर में सुजान-भगत का अनादर कैसे हुआ?
उत्तर:
जब से सुजान महतो, सुजान भगत बन गया तो उसके हाथों से धीरे-धीरे अधिकार छीने जाने लगे।

किस खेत में क्या बोना है, किसको क्या देना है, किसकों क्या लेना है, किस, भाव क्या चीज बिकीं. ऐसी-ऐसी महत्वपूर्ण बातों में भी भगत जी की सलाह न ली जाती। भगत के पास कोई जा नही पाता। उसके दोनो लडके और पत्नी ही हर मामला तय करती। गाँव भर में सुजान का मान-सम्मान बढता था, लेकिन अपने ही घर में घटता जाता।

प्रश्न 2.
सुजान भगत अपना खोया हुआ अधिकार फिर कैसे प्राप्त करता है?
उत्तर:
सुजान महतो जब सुजान भगत बना तो उसने कामकी सारी जिम्मेदारी अपने बेटो को सौंप दी।

2nd PUC Hindi Workbook Answers गद्य Chapter 1 सुजान भगत

बच्चे उसका बडा आदर करते थे लेकिन घर में अब सब उनका ही अधिकार चलता यथे जहाँ राज्य किया था वहाँ पराधीन बनकर रहना सुजान को अच्छा नही लगा सुजानने सोच लिया। उसमें वह लाग थी ताकद थी। वहा फिरसे खेत में काम करने लगा इतना श्रम जितना जीवन में उसने कभी न किया था। गाँव में हुई टीकाओं पर उसने ध्यान नही दिया। अबके उसके खेत सोना उगल दिया। जहाँ मुश्किल से पाँच मन होता था, उसी खेत में दस मन की उपज हुई। बेटे देखते रहे। इस तरह उसने फिर से ऐसे अपना अधिकार प्राप्त किया।

III. ससंदर्भ स्पष्टीकरण कीजिए:

प्रश्न 1.
आदमी को चाहिए कि जैसे समय देखे वैसा काम करे प्रसंगः
उत्तर:
प्रसंग : प्रस्तुत वाक्य प्रेमचंद के लिखे ‘सुजान भगत’ पाठ से लिया गया है।

व्याख्या – ऊपर के वाक्य को बुलाकीने अपने पति सुजान से कहा है। सुजान जब भीखमंगेको सेर भर जौ दिया तो भोला ने उन्हें बहुत बुरा-भला कहा जिससे सुजान बहुत क्रोधित हुए। बुलाकी सुजान को खानेको बुलाने गयी सुजान ने मना किया। तब बुलाकी अपने बेटे की बात का क्या बुरा मानना कहकर दुनिया के दस्तूर की बात करती हुई कहती है जो कमाता है घर में उसीका राज होता है, आदमी को चाहिए कि जैसा समय देखे वैसा काम करों समझाया।

2nd PUC Hindi Workbook Answers गद्य Chapter 1 सुजान भगत

प्रश्न 2.
अच्छा. तुम्हारे सामने यह ढेर है। इसमें से जितना अनाज उठाकर ले जा सको, ले जाओ
उत्तर:
प्रसंग : प्रस्तुत वाक्य प्रेमचंद के लिखे ‘सुजान भगत’ पाठ से लिया गया है।

व्याख्या – सुजान भगत ने यह वाक्य भिक्षुक से कहा। सुजान ने फिर से दुगुने उत्साह से खेत में मेहनत करना शुरू किया और अपनी खोई हुई इज्जत वापस पा ली। सब जगह अनाज के ढेर लगाए वह गर्व से देख रहा था। कुछ महीने पहिले जो भिक्षुक द्वार से निराश होकर लौटा था और देखकर सुजान ने उस ऊपर का वाक्य कहा। अब उसे रोकने वाला कोई नहीं था।

2nd PUC Hindi Workbook Answers गद्य Chapter 1 सुजान भगत